SHAHENSHAH KI QALAM SE! शहंशाह की क़लम से!

सच बात-हक़ के साथ! SACH BAAT-HAQ KE SAATH!

39 Posts

40 comments

SYED SHAHENSHAH HAIDER ABIDI


Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.

Sort by:

विजयदशमी की हार्दिक शुभकामनायें !!

Posted On: 11 Oct, 2016  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

में

0 Comment

गांधी और शास्त्री जयंती पर विशेष लेख

Posted On: 2 Oct, 2016  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

में

4 Comments

“आधुनिक युवा पीढ़ी और रक्षाबंधन”

Posted On: 18 Aug, 2016  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

में

1 Comment

जश्ने आज़ादी मुबारक । جشن آزادی مبارک ! HAPPY INDEPENDENCE DAY.

Posted On: 15 Aug, 2016  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

में

7 Comments

ईरोम शर्मीला तुम्हारे जज़्बे को मेरा सलाम।

Posted On: 10 Aug, 2016  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

में

1 Comment

Page 1 of 41234»

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

आदरणीय सैय्यद शहनशाह हैदर आब्दी जी ! सादर अभिनन्दन ! आपके कुछ लेख पढ़े ! अच्छा लिखते हैं, लेकिन निष्पक्ष होकर नहीं ! देश के आम मुसलमानों से थोड़ा अलग हटकर सोचते हैं, लेकिन बहुत ज्यादा नहीं ! मोदी विरोध से आप भी ग्रसित है ! देश की जनता द्वारा बहुमत से चुने हुए प्रधानमंत्री का हमेशा विरोध करना किसी देशद्रोह से कम नहीं है ! जब भी आप ऐसा करते हैं, तब आपकी अच्छी बातें भी निरर्थक साबित हो जाती हैं ! लेख में आपने लिखा है कि 'मुल्क के ग़द्दार हैं वो लोग जो इस मुल्क के तिरंगे परचम को एक रंग में रंगने की साज़िश रच रहे हैं !' यहाँ पर पूरी बात लिखने से क्यों बच रहे हैं? मकसद केवल मोदी, भाजपा और संघ का विरोध करना मात्र था ! आपको निष्पक्ष रूप से लिखना चाहिए था कि मुल्क के गद्दार हैं वो लोग जो इस मुल्क का भगवाकरण या इस्लामीकरण करना चाहते हैं ! इस तरह से एकपक्षीय लिखेंगे तो समाजवादी पार्टी का प्रचार लगेगा ! सादर आभार !

के द्वारा: sadguruji sadguruji

हम, जंगे आज़ादी जब जीते तब ऊधमसिंह जी, राम मोहम्मद आज़ाद बने, जब अशफाक़उल्ला और राम प्रसाद बिस्मिल एक दूसरे के भाई बने। रानी झांसी, ग़ुलाम ग़ौस खान और ख़ुदा बख़्श ने एक दूसरे पर अटूट विश्वास किया। ऐसे अनेकानेक उदाहरण दिये जा सकते हैं। देश को विश्व गुरु बनाने के लिए आज फिर इसी जज़्बे की बेहद ज़रूरत है। जो हममें एक दूसरे के प्रति नफरत और अविश्वास का बीज हो रहे हैं, देश के संविधान की आत्मा - समाजवाद, धर्मनिरपेक्षता और लोकतंत्र का मज़ाक़ उङा कर इन्हें नकार रहे हैं। वो न सिर्फ हमारे, बल्कि देश और समाज के दुश्मन हैं, राष्ट्र द्रोही हैं। ऐसे लोगों को सबक़ सिखाना ही आज़ादी के शहीदों को सच्ची श्रृध्दाजंली है। मां तुझे सलाम। जश्ने आज़ादी की 70 वीं साल गिरह अज़ीम देश के बाशिंदों को बहुत बहुत मुबारक।“

के द्वारा: SYED SHAHENSHAH HAIDER ABIDI SYED SHAHENSHAH HAIDER ABIDI

प्रिय ब्लॉगर मित्र द्वय, सादर नमस्कार. मोदी जी द्वारा किया गया सबसे महत्वपूर्ण कार्य का उल्लेख करना मैं भूल गया. पिछले लगभग 50 साल से लंबित पड़ा, services का One Rank and One Pay ( OROP ) का मामला मोदी जी ने सुलझाया. आज़ादी के समय से लेकर आज तक यह काम कोई नहीं कर सका था. आप के अनुसार मेरी आँखें मुंदी हुई हैं.फिर भी मैं यह सब देख पा रहा हूँ. आप लोग खुली आँखों से भी नहीं देख पा रहे हैं. श्री हैदर आबिदी साहब sadistic मानसिकता के व्यक्ति हैं जो दूसरों को दुखी देख कर खुश होते हैं. उनकी ख़ुशी का सवब है अमेरिकी सीनेट द्वारा भारत को विशेष सहयोगीका दर्ज न दिया जाना. यह आप किसके खिलाफ लिख रहे हैं. अपने देश भारत के मोदी का भी मजाक banana का भी अवसर मिल गया. उनका लेखन कितना तर्क सगत है कृपया इस पर दुबारा विचार कर लें. गुस्ताखी माफ़

के द्वारा: Dr S Shankar Singh Dr S Shankar Singh

और भी ...........( पिछली टिप्पणी का शेष ). आज जब दुनिया में भीषण मंडी छाई हुई है भारत का GDP rate of gowth 7.9 % है जो विश्व में सबसे ऊपर है. यह मेरी समझ से बहार है कि यह सब क्यों नहीं दिखाई देता है. उनका भाषण बेजोड़ होता है. उनकी भाषण शैली सबको आकर्षित करती है और सबको तालियां बजाने पर मजबूर करती है. मैं कहना चाहूंगा कि ताली बजाने वालों को underestimate मत करिये. ये लोग intelligence में हमसे किसी प्रकार कम नहीं हैं. ये लोग कुछ सोच कर किसी उम्मीद में ही लाखों की संख्या में ताली बजाने जाते हैं. एक और बात जो मुझे नज़र आ रही है लेकिन मेरे सोये हुए मित्रों ओ नज़र नहीं आ रही है वह यह है कि UPA सरकार के समय में 2 G, 3G. CWG, KOYALA ब्लाक का आंवटन , Westland HELICOPTER DEAL जैसे एक घोटाला रोज के हिसाब से होते थे. NDA के दो साल के शासन में एक भी घोटाला नज़र में नहींआया है. ये छोटी बातें नहीं हैं.

के द्वारा: Dr S Shankar Singh Dr S Shankar Singh

प्रिय सर्व श्री जीतेन्द्र जी एवं ज ल सिंह जी, सादर अभिवादन. मुझे देश में बहुत बड़ा परिवर्तन नज़र आ रहा है. भारत -पाकिस्तान border पर पाकिस्तान द्वारा cross firing को काफी हद तक contain किया गया है. किसी सेना के सूत्र से verify कर सकते हैं. नक्सल वादी आतंक को भी नियंत्रण में लाया गया है. Railway के कार्य को चारों और प्रशंसा मिली है. infrastructure में सडकों और power generation में बहुत कार्य हो रहा है. गरीबों के लिए Insurance schemes प्राम्भ की गई हैं. दुनिया में देश की प्रतिष्ठा बढ़ी है. दो साल में इतना कार्य UPA सरकार के समय में कभी नहीं हुआ. मोदी का मूल्यांकन अकेले में न करके युलनात्मक तरीके करिये. यह सब अगर आपको नज़र नहीं आता है तो मैं सोने वालोम को तो जगा सकता हूँ n मगर सोने का नाटक करने वालों को जगा नहीं पाउँगा. हो सकता है मोदी जी के सारे वादे पूरा करने में समय लगे, लेकिन मैं आश्वस्त हूँ की देश की गाड़ी पटरी परआ चुकी है.अगर लेखक के लिखने का ढंग चुभने वाला हो सकता है तो यह अधिकार मुझे भी मिलना चाहिए.

के द्वारा: Dr S Shankar Singh Dr S Shankar Singh

जय श्री राम सईद साहिब आपने कट्टरपंथी मानसिकता वाला लेख लिखा आरएसएस एक राष्ट्रीय भवन से गैर राजनातिक संगटन है जो आदि वशी गावो पिछड़े इलाके में शिक्षा और स्वश्त्य के क्षेत्र में बहुत अच्छा कार्य करता और किसी भी प्रकादिक आपदा में बढ़ चढ़ कर निष्वार्थ भाव से सेवा करता सेक्युलर ब्रिगेड कुछ बुद्दिजीवी और न समझ लोग उसके बारे में बिना जाने ऐसी बकवास करते भारत माता की जय करते शहीद हुए मोहन भगवत ने कुछ गलत नहीं कहा लेकिन ओवैसी से उसकी तुलना करने आपकी मानसिकता पता चल गयी आप वही भाषा बोल रहे जो कांग्रेस या सेकुलर नेता या बुद्धिजीवी बोलते जो हिन्दू विरोध में ही बोलते क्योंकि उनकी सोच एयर कंडीशन कमरे में जाम के पैग से शुरू होती.

के द्वारा: rameshagarwal rameshagarwal

के द्वारा: शालिनी कौशिक एडवोकेट शालिनी कौशिक एडवोकेट




latest from jagran